राष्ट्रीय युवा दिवस भाषण | National Youth Day Hindi Speech

राष्ट्रीय युवा दिवस भाषण | National Youth Day Hindi Speech 

हमारे भारत देश में राष्ट्रीय युवा दिवस को हर साल 12 जनवरी के दिन स्वामी विवेकानंद की जयंती पर मनाया जाता है। स्वामी विवेकानंद युवाओं के लिए सबसे बड़े प्रेरणा का स्त्रोत हैं और उनसे बहुत कुछ सीखने को मिलता है। राष्ट्रीय युवा दिवस के इसी अवसर पर हम लेकर आए हैं – राष्ट्रीय युवा दिवस पर भाषण जो आप अपने स्कूल, कॉलेज और सरकारी संस्थानों में दे सकते हैं। 

राष्ट्रीय युवा दिवस पर भाषण 

सबसे पहले तो आप सभी का हृदय से धन्यवाद मुझे राष्ट्रीय युवा दिवस पर अपनी बात प्रस्तुत करने के लिए –

आज हम युवाओं के प्रेरणा स्त्रोत स्वामी विवेकानंद की जयंती पर, राष्ट्रीय युवा दिवस मना रहे हैं। वो युवा जो देश का भविष्य बदलने की क्षमता रखता है।

मेरे नौजवान साथियों, हमने स्वतंत्रता आंदोलन में हिस्सा नहीं लिया, इसलिए हमारी बड़ी जिम्मेदारी उन सपनों को पूरा करने की है, जो सपने उस समय आजादी के दीवानों ने देखे थे।

जब जेल में ब्रिटिश पुलिस कोड़े बरसाती थी, तो उस समय अंधेरी कोठरी में सब कुछ बर्दाश्त करते हुये हमारे वीर सेनानी जिस भारत का सपना देख रहे थे, इस भारत को बनाने की ज़िम्मेदारी हम सभी युवाओं की है। जब हम उस कल्पना को, उस सपने को जीत जाएंगे, उनके सपनों के भारत के लिए संकल्प भी ले पाएंगे।  

स्वामी विवेकानंद कहते थे कि –

“युवा वो होता है जो बिना अतीत की चिंता किए अपने भविष्य के लक्ष्यों की दिशा में काम करता है”। आप सभी युवा, जो आज काम करते हैं, वही देश के भविष्य की दिशा तय करता है। इसलिए आप जो आज संकल्प लेंगे, वही सिद्ध होकर देश को भी सिद्ध करेंगे।”

साथियों, हर व्यक्ति को कभी ना कभी अकेले ही शुरुआत करनी होती है आपकी नीयत साफ होती है, इरादे स्पष्ट होते हैं, हौसले बुलंद होते हैं तो आपके साथ अपने आप ही  लोग जुड़ने लगते हैं। मेरी आज आपसे यही अपेक्षा है कि पहला कदम उठाने से पहले, कुछ संकल्प करके नई शुरुआत करने से पहले घबराएं नहीं, बस ठान लें और चल पड़ें।

एक प्रख्यात गीतकार ने क्या खूब लिखा है –

मैं अकेला ही चला था जानिब-ए-मंज़िल मगर,
लोग साथ आते गये और कारवां बनता गया”।

इस देश का नौजवान जब ठान लेता है, तो कुछ भी कर गुजरता है। ऊर्जा से भरे ऐसे नौजवान देश के हर कोने में उपस्थित हैं कोई पहाड़ों से निकलने वाले छोटे झरनों से बिजली बना रहा है, कोई कूड़े से बिजली पैदा कर रहा है, कोई कूड़े से घर निर्माण की चीजें बना रहा है, कोई टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल करते हुए गांव में स्वास्थ्य  सुविधाएं पहुंचा रहा है, ऐसे करोड़ों युवा राष्ट्र निर्माण के लिए दिन रात एक कर रहे हैं।

साथियों, मुझे देश के नौजवानों पर पूरा भरोसा है, देश की युवा शक्ति, युवा ऊर्जा पर पूरा भरोसा है। देश के सपने अगर कहीं निवास करते हैं तो देश के युवा हृदय में करते हैं।

भारत के युवा में ये सामर्थ्य है कि वो जहां भी गया है, अपना और देश का नाम रोशन या है। विदेशों में आज बड़ी बड़ी कंपनयियों के सीईओ भारत के हैं, क्या ये हमारे लिए गर्व का विषय नहीं है। 

आइए, हम सभी मिलकर, देश के नौजवान मिलकर, परिश्रम की पराकाष्ठा करें,अपनी ऊर्जा राष्ट्र निर्माण में लगाएं और एक नया भारत बनाएँ।

एक बार फिर आप सभी को युवा दिवस की शुभकामनाओं के साथ

स्वामी विवेकानंद का पुनः स्मरण करते हुए, उन्होंने जो मार्ग दिखाया है, सामाजिक समरसता का मार्ग दिखाया है, ऊँच नीच के भेद से मुक्ति का मार्ग दिखाया है, राष्ट्र के लिए जीने मरने का मार्ग दिखाया है ऐसे महा पुरुष के जन्मदिन पर युवा प्रेरणा, युवा सामर्थ्य, युवा संकल्प के साथ आप आगे बढ़ें इन ही शुभकामनाएं के साथ,  मैं अपनी वाणी को समाप्त करता हूं।

बहुत-बहुत धन्यवाद !!

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here