लोकतंत्र में मतदान का महत्व पर निबंध

लोकतंत्र में मतदान का महत्व निबंध | The importance of voting in democracy Essay in Hindi 

मतदान का महत्व देश के लोगों को जरूर पता होना चाहिए क्यूंकी मतदान ही हमें एक अवसर देता है सही प्रतिनिधि को चुनने का। मतदान के इसी महत्व को बताते हुये यहां हम मतदान का महत्व पर निबंध लेकर आए हैं। 

लोकतंत्र में मतदान का महत्व निबंध (150 शब्द)

लोकतंत्र में मतदान एक महापर्व होता है जिसमे सभी मतदाता भाग लेकर अपने कीमती मत का दान करते हैं और देश के प्रतिनिधि को चुनते हैं। भारत जैसे दुनिया के सबसे बड़े लोकतंत्र में मतदान का बहुत महत्व है। हमारा मत ही देश का भविष्य तय करता है।

मतदान को लोकतंत्र में सबसे बड़ा दान कहा जाता है। देश का हर एक नागरिक जब मतदान के महत्व को समझकर मत देता है तभी देश को ईमानदार और काम करने वाला प्रतिनिधि मिलता है।

हमारा मतदान ही तय करता है की हम देश में कैसी सरकार चाहते हैं। जब मतदान का महत्व हम नहीं समझते और मत नहीं देते तो कहीं ना कहीं हम देश का ही नुकसान कर रहे होते हैं।  लोकतंत्र से चलने वाले देश के हर एक नागरिक का परम कर्तव्य है की वो मतदान में हिस्सा अवश्य ले और अपना कीमती मत देकर देश को एक ईमानदार और मजबूत सरकार दे।

लोकतंत्र में मतदान का महत्व निबंध (200 शब्द)

हमारा भारत देश एक लोकतांत्रिक देश है जहां आम जनता को ही सर्वोपरि माना जाता है। यह आम जनता ही मतदान के द्वारा देश का शासक तय करती है। लोकतंत्र में मतदान बहुत जरूरी है और जब तक मतदान करने का हक आम लोगों के पास है तभी तक देश में लोकतंत्र है।

जिस देश में मतदान करने का अधिकार आम जनता के पास नहीं होता वहाँ लोकतंत्र का राज नहीं होता बल्कि ऐसे देश में तानाशाही का राज होता है। मतदान लोकतंत्र की प्राणवायु है अतः सभी को इसके महत्व के बारे में जरूर पता होना चाहिए।

लोकतंत्र में आम लोगों द्वारा किया गया मतदान ही तय करता है की देश का प्रतिनिधि कैसा होगा। जब देश में सभी मतदान करते हैं तो निश्चित रूप से हमें एक अच्छी और ईमानदार सरकार मिलती है। लेकिन जब आम लोग मतदान के महत्व को ना समझकर मतदान में भाग नहीं लेते तो ऐसे प्रतिनिधि चुनकर आते हैं जो अयोग्य होते हैं और भ्रष्ट होते हैं। जब ऐसे भ्रष्ट लोग चुनकर आते हैं तब देश को सबसे बड़ा नुकसान होता है और इसका जिम्मेदार कोई और नहीं बल्कि वही आम लोग हैं जो मतदान नहीं करते।

मतदान करना हमारा अधिकार भी है और कर्तव्य भी अतः हम सभी को मतदान का महत्व पता होना चाहिए और मतदान में शामिल होना चाहिए।

लोकतंत्र में मतदान का महत्व निबंध (500 शब्द)

हम सभी भारतवासी एक लोकतांत्रिक देश में रहते हैं। लोकतंत्र अर्थात लोगों का समूह, लोगों का तंत्र जहां आम जनता ही सब कुछ होती है और वही तय करती है की देश पर शासन कौन करेगा और उनका प्रतिनिधि कौन बनेगा।

देश की आम जनता को लोकतंत्र ने सबसे बड़ा हथियार दिया है और उस हथियार का नाम है – मतदान

जी हाँ किसी भी लोकतंत्र के लिए मतदान सबसे महत्वपूर्ण होता है। मतदान अर्थात देश की आम जनता द्वारा किया जाने वाला मतों का दान। मतदान ही तय करता है की देश की भागडोर हम किसके हाथों में देने जा रहे हैं, मतदान ही देश का भावि तय करता है और मतदान ही हमें यह अधिकार देता है की हम किसी भी सरकार को गिरा सकते और किसी भी सरकार को बना सकते हैं।

जब देश के सभी नागरिक मतदान के महत्व को समझते हैं तभी देश में हमें ऐसा प्रतिनिधि मिलता है जो वाकई में योग्य है और जो सही अर्थ में देश की सेवा करना चाहता है। देश के सभी लोग जब अपना मतदान करते हैं तभी हमें ईमानदार सरकार मिलती है और जब हम मतदान का महत्व नहीं समझते और लालच में आकर मतदान करते हैं या मत करते ही नहीं तो ऐसे में कहीं ना कहीं हम देश का अहित कर रहे होते हैं।

हमारे देश में हर पाँच साल में चुनाव का आयोजन किया जाता है जिसमे हम तय करते हैं की राज्य सरकार किसकी होगी और कौन केंद्र सरकार में आएगा। ये मतदान ही हमें अधिकार देता है की हम अपनी नाराजगी को प्रकट कर सकें, यदि हमें सरकार का काम पसंद नहीं तो मतदान हमें फिर से अवसर देता है की हम नयी सरकार को चुन सकें।

मतदान हम सभी को करना चाहिए क्यूंकी यह हमारी ज़िम्मेदारी भी है। जब हम मतदान नहीं करते तो हमें ऐसे प्रतिनिधि मिलते हैं जो अयोग्य होते हैं और देश का अहित कर सकते हैं। जब सभी लोग अपने मतदान के अधिकार का प्रयोग करते हैं तब हम ऐसे व्यक्ति को चुनते हैं जो सच्चा और ईमानदार है।

यदि हम देश को एक अच्छा प्रतिनिधि देना चाहते हैं और देश के भावि को बेहतर बनाना चाहते हैं तो आइये लोकतंत्र में मतदान का महत्व समझें और चुनाव के समय अपने घरों से निकलकर अपना कीमती मत का दान अवश्य करें। याद रखें मतदान लोकतंत्र की जान होती है और लोकतंत्र तभी तक सुरक्षित है जब तक मतदान का महत्व आम जनता को पता है।

लोकतंत्र में मतदान का महत्व निबंध (800 शब्द)

प्रस्तावना

दुनिया को कोई भी लोकतांत्रिक देश हो सभी में एक समानता है और वो ये की वहाँ प्रजा ही सब कुछ होती है। वही सही मायने में राजा होती है। लोकतंत्र में राजशाही का कोई स्थान नहीं। एक लोकतंत्र से चलने वाले देश के लिए मतदान उसकी सबसे बड़ी शक्ति होता है। मतदान ही लोकतांत्रिक देश की दशा और दिशा तय करता है, अतः हमें मतदान का महत्व समझने की आवश्यकता है।

लोकतंत्र में मतदाता है सर्वोपरी

लोकतंत्र से चलने वाले देश के लिए मतदाता ही भगवान होता है। वही तय करता है की देश का प्रतिनिधि कौन होगा और कौन इस देश का भविष्य बनाएगा। मतदाता यानि आम लोग जो अपने कीमती मत (वोट) से देश में प्रतिनिधि को चुनते हैं। उस देश में लोकतंत्र नहीं होता जहां प्रजा को सेवक समझा जाता है वहाँ तानाशाही का राज होता है।

मतदान का महत्व

लोकतंत्र में मतदाता ही सर्वोपरी है अतः मतदान करने वाला यदि अपना मत ना दे तो इसमें देश का ही अहित है। लोकतंत्र से चलने वाले किसी भी देश के लिए मतदान बहुत जरूरी होता है। हमारे भारत देश में हर पाँच साल बाद लोकसभा चुनाव आयोजित किए जाते हैं जिसमे यह तय किया जाता है की देश का प्रधानमंत्री कौन होगा। वहीं दूसरी तरफ हर पाँच साल में राज्यों में भी चुनाव किए जाते हैं जिसमे यह तय किया जाता है की राज्य सरकार किसकी बनेगी। 

केंद्र सरकार और राज्य सरकारों का गठन कौन करता है, जी हाँ मतदाता अपने कीमती मत का दान करके ही इन सरकारों का गठन करता है जो इस देश की भागडोर को संभालते हैं।  मतदान जैसे हथियार का इस्तेमाल कर हम किसी भी सरकार को गिरा भी सकते हैं और बना भी सकते हैं। 

मतदान करने से ही देश का भविष्य तय होता है और वही तय करता है की देश में हम कैसी सरकार चाहते हैं। यदि मतों की प्रतिशत संख्या अच्छी होती है और सभी मतदान करते हैं तो देश को एक अच्छा प्रतिनिधि मिलता है और यदि मत कम पड़ते हैं तो गलत प्रतिनिधि ही देश को मिलता है।

मतदान देश की आम जनता को अवसर देता है की वो एक सही प्रतिनिधि को चुनकर लाएँ जो उनका और देश का विकास कर सके, देश का भविष्य सुधार सके।

सभी करें मतदान

जी हाँ, देश के हर नागरिक का यह परम कर्तव्य है की वो अपना कीमती मत का दान करें, अर्थात मतदान के महापर्व में भाग लेकर देश को सही प्रतिनिधि देने में अपना सहयोग करें।  लोकतंत्र में सभी को मत देने का अधिकार है और यह अधिकार हमें इसीलिए दिया गया है ताकि हम तय कर सकें की इस देश को कौन चलाएगा, कौन इस देश को चलाने योग्य है।

हमारे भारत देश में 18 साल से ऊपर हर नागरिक को मत देने का अधिकार प्राप्त है। अतः सभी नागरिकों का देश के प्रति यह कर्तव्य है की वो मतदान के समय मत अवश्य डालें।

मतदान ना करने से देश का अहित

आज भी हमारे देश में मतदान के समय बहुत ही कम मतदान होता है जिसका प्रभाव सीधे हमारे देश के विकास और उसके भविष्य पर पड़ता है। देश की आम जनता में ऐसे बहुत से लोग हैं जिन्हें मतदान करने का महत्व ही नहीं पता और इसी वजह से वो चुनाव के समय अपना कीमती मत नहीं डालते।

लेकिन जो मतदान नहीं करते वो ये नहीं जानते की उनके मतदान ना करने से देश का कितना बड़ा अहित होता है। जब सही मतदान नहीं होता तो ऐसे प्रतिनिधि चुनकर आते हैं जो भ्रष्ट होते हैं, कम पढे-लिखे होते हैं और जिन्हें देश को चलाने का कोई अनुभव नहीं होता। जब ऐसे प्रतिनिधि चुनकर आते हैं तब देश में भ्रष्टाचार बढ़ता है, सरकार अपना ईमानदारी से काम नहीं करती और देश की आम जनता को महंगाई, बेरोजगारी, भ्रष्टाचार, गरीबी आदि का सामना करना पड़ता है।

मतदान जब तक सभी लोग नहीं करते तब तक ऐसे ही भ्रष्ट लोग चुनकर आते हैं जो देश को दीमक की तरह खोखला कर देते हैं। यदि सभी आम लोग अपनी ज़िम्मेदारी समझकर मतदान में भाग लें तो ऐसे भ्रष्ट लोगों के चुनकर आने की संभावना खतम हो जाएगी।

मतदान है लोकतंत्र में सबसे बड़ा दान

मंदिरों में किया गया दान हमें पुण्य देता है तो वहीं लोकतंत्र में मत का दान हमें एक अच्छा प्रतिनिधि देता है। लोकतंत्र में मत को सबसे बड़ा दान कहा जाता है और यह दान देने से हमारा कोई नुकसान नहीं होता बल्कि सिर्फ कल्याण ही होता है। लोकतंत्र तभी तक सुरक्षित है जब तक यह दान सभी लोग करते रहें।

उपसंहार

लोकतांत्रिक देश में मतदाता को जागरूक होने की आवश्यकता है और लोकतंत्र में मतदान के महत्व को अच्छी तरह से समझने की जरूरत है। हम सभी यही चाहते हैं की हमारा देश खूब आगे बढ़े, खूब तरक्की करे और यह तभी संभव है जब देश में अच्छी सरकार हो जिसे देश के सभी मतदाताओं ने चुनकर बनाया हो।

इसलिए सभी मतदान करें और देश को एक सच्चा, ईमानदार, कर्मठ और अच्छे चरित्र वाला प्रतिनिधि दें जो वाकई में प्रजा का सेवक बने।

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here